फिक्र – A Poem on our Common Insecurities

फिक्र – A Poem on our Common Insecurities

क्या कोई ख्याल तुम्हारा  नहीं ? कोई तो होगा ! कोई डर – कोई शर्म …जो मिल्कियत हो बस  तुम्हारी ! या तेरे  सारे डर .. तुम्हारी  सारी  फिक्रें…. बस उधार के ही हैं ?   वो बीज देते हैं ( अपनी ) फिक्र के तुमको , तुम सींच के बरगद कर देते हो . अपनी बेफ़िक्री कि छाँव में.. […]

MOST INSPIRING SUCCESS QUOTES IN HINDI

MOST INSPIRING SUCCESS QUOTES IN HINDI

सवाल ये नहीं कि कौन मुझे मौका देगा , सवाल ये है कि मुझे रोकने वाला भी कौन है  !-Ayn Rand “The question isn’t who is going to let me; it’s who is going to stop me”- Ayn Rand जो कुछ भी आप बिना किये मर जाना चाहते हैं – उसे बस कल पे टाल दीजिये- Pablo Picasso “Only put […]

MOST INSPIRING QUOTES ABOUT SUCCESS

MOST INSPIRING QUOTES ABOUT SUCCESS

“The question isn’t who is going to let me; it’s who is going to stop me”- Ayn Rand “Only put off until tomorrow what you are willing to die having left undone” –Pablo Picasso “Your time is limited, so don’t waste it living someone else’s life” – Steve Jobs “Every child is an artist, the problem is staying an artist […]

छोटा सा सच !

छोटा सा सच !

 पहले , हर बच्चे के दो-दो जन्मदिन हुआ करते थे. पहला पूर्णतः निजी ! जो बच्चे के अभिभावक एक डायरी में लिख कर के रखते थे. आवश्यकता पड़ने पर यह संवेदनशील जानकारी सिर्फ घर के पंडित जी के साथ में साझा की जाती थी. ( even wikileaks and cambridge analitica couldnt break the firewall of that godrej almirah) दूसरा विशुद्ध सरकारी ! […]

अब बोल भी दो…

अब बोल भी दो…

Happy women’s day…. तुम्हारी लम्बी खामोशियाँ अब….  जहाँ के कानों को खल रही हैं पुराने मौसम बदलेंगे शायद नयी हवाएं चल रही हैं अबके बारिश बरसे जो बादल बूँद बूँद तुम्हारी आवाज़ बरसे वो पट्टी जो मुँह पे बंधी तुम्हारी खोल भी दो बोलो मेरी जान अब बोल भी दो छू न पायी , उन हिमालयों की चोटियों से जली […]

रंग ….

रंग ….

ये रंग क्या है ?…. कहाँ बना था? रखा कहाँ था ?……. सबसे पहले। मेरा गेरुआ- और हरा तुम्हारा, बंटा था जब- उससे भी पहले ! रखा कहाँ था ?…. बनाने वाले ने जब बनायीं  ये दुनिया यकीं है मेरा- सादी ही होगी ! बेरंग दुनिया में रंग भरने,  उसने सदियां लगाई होंगी !   पहले रंगो के कारखाने लगाए […]

एक ख़त सीरिया से……

एक ख़त सीरिया से……

For children of Syria….( a letter to GOD) ख़ुदा सुनो ! वहां सीरिया में…. हो सके तो -लगा दो कोई कल कारखाना रोटियों का, सुना वहां पे कितनी नन्ही भूखों ने बहुत दिनों से कुछ खाया नहीं है.. कुछ पाएं तो दुआएं देंगे।। बचेंगे तो मानेंगे तुमको…. रोटियां बन भी जाएँ भरोसा शायद बनने न पाए वहाँ किसी में बचा नहीं […]