क्या कोई ख्याल तुम्हारा  नहीं ? कोई तो होगा ! कोई डर – कोई शर्म …जो मिल्कियत हो बस  तुम्हारी ! या तेरे  सारे डर...