रात खिड़की से – मुझको बुलाते रहे… वो सपने -जो बरसों जगाते रहे। उन ख्वाबों की -पगडण्डी थामे हुए… घर से निकले थे कब !-...